सोमवार, 27 दिसंबर 2010

नया साल नयी संभावनाएं


नयी दिशाएं नयी संभावनाएं ---- सवारे सज़ाएँ
एक बार फिर से नया वर्ष आ गया हम सब ही इस बात की तैयारी में लगे हैं कि नए वर्ष का स्वागत करें होगा भी ऐसा ही धूम धाम से नए साल का आगमन होने जा रहा है फिर से जागेंगी नयी उम्मीदें फिर से देखे जायेंगे नए सपने इस विश्वास के साथ कि वे पूरे होंगे कोई मसीहा आयेगा जो हमारी उम्मीदों पर पानी फिर जाने से रोकने की कोशिश करेगा.और हमें विश्वास रखना ही होगा की ऐसा होगा ही जैसा कि कहा भी गया है कि **आशा से आकाश टीका है ** हमें अपनी आशाओं को जगाकर बनाकर तो रखना ही होगा अन्यथा हममें और पत्थर की मूरत में क्या अंतर रह जायेगा किसी महापुरुष ने कहा भी है की यदि हममें मतभेद नहीं होंगे तो हमारे मध्य चर्चा करने को बच ही क्या जायेगा. वैसे कभी कादम्बनी पत्रिका में पढ़ा एक वाक्य चिंतन का विषय हो सकता है कि कितना सुखद और निरापद है मूर्तियों की तरह पत्थरों में तराश कर जिया जाना ताकि यदि हम बिकें भी तो करोड़ों में भले ही जीते जी हमारी कीमत कौड़ियों में न आकी जा सके. सच ही तो है आम आदमी की कीमत पहचानी भी जा सकेगी यह विवाद का ही विषय है. नए साल के अवसर पर मुझे मेरे एक मित्र द्वारा भेजा गया बधाई कार्ड याद हो आया शायद यह मेरी बेवकूफी ही थी की मैंने उसे संभल कर नहीं रखा उसके शब्द निम्न थे
नया वर्ष
नई रौशनी
नई आशाएं
नई दिशाएं
नई संभावनाएँ
आइये हम सब मिलकर इन्हें
सवारें सज़ाएँ शुभ कामनाएं
सच ही तो है कि हर नया साल हमारे लिए प्रगति कि अशेष संभावनाएं लेकर आता है यह अलग बात है कि हममें से कुछ ही लोग उन संभावनाओं को पहचान पाते हैं शेष नहीं.शायद शेष हम अंधेरे में ही भटके रह जाते है अपनी अंदर की क्षमताओं को पहचान नहीं पाते. मुझे मेरे शिक्षक कवि श्री आर एस केसरी की पंक्तियाँ याद हो आती है कि
हर आदमी निगल गया है एक सूरज को
अपने सूरज को उगल दो उजाला हो जायेगा
और तब आदमी आदमी को पहचान जायेगा **
प्रश्न फिर भी यक्ष की ही तरह खड़ा है कि क्या हम यह प्रयास भी करेंगे कि हम अपने आप को पहचान सकें? शायद नहीं.
इस साल यदि हम अपने आप में कम से कम सकारात्मक सोच का ही विस्तार कर पायें तो ही मेरी नज़रों में यह एक उपलब्धि होगी (कम से कम मेरे लिए तो होगी ही क्योंकि समाज के कुछ नाम चीन लोगों की करतूतों को देखकर मेरी सोच लगातार ही नकारात्मक होती जा रही है ऐसा मुझे लगता है )
गुज़रे साल में क्या खोया क्या पाया का विश्लेषण हमारी उपलब्धि हो सकती है बशर्ते कि यह निष्पक्ष भाव से हो.और हममें आत्मविश्लेषण करने का साहस हो.
हर साल अनायास ही कुछ न कुछ ऐसा तो घाट ही जाता है जिसे न चाहने पर भी हम भुला नहीं सकते न चाहने पर भी अकेले बैठे बैठे हमें वे घटनाएँ याद हो आती है कविवर मैथलीशरण गुप्त की पक्तियां याद हो आती है कि
** कोई पास नहीं रहने पर भी जन मन मौन नहीं रहता
आप आप की कहता है वह आप आप की सुनता **
अकेले बैठे बैठे मन की भावनाओं ने कुछ पंक्तियों में आकर ले लिया सादर प्रस्तुत है
आ गया फिर नया साल
लेकर असीम संभावनाएं
कास कि जुड़कर हम अपने स्वर्णिम अतीत से
भविष्य के फिर से सपने सज़ाएँ
रखे खुद को दूर घपलों घोटालों से
( घपले आम आदमी तो कर नहीं सकता किन्तु कम से कम
नामचीन लोगों के गप्ले सुनने को तो न मिलें क्योंकि उनका होना
तो अब हमारी नियति सी बनती नजर आ रही है )
सच करें उन सपनों को जो आँखों में हैं सालों से
उम्मीद की किरण सदा जलती जगमगाती रहे
मन में सदा ही सभी के नव प्रकाश फैलाती रहे
जीवन सदा ही खुशियों से सभी का भरा रहे
न भूखा नंगा रहे कोई न कोई किसी के ज़ुल्म सहे
अवगुण न दिखे किसी के सद्गुणों की सभी में खान दिखे
किसी की भावनाएं न हो आहत सभी का बना स्वाभिमान रहे
कोशिश हो जीवन सिर्फ जीने के लिए न जीया जा ये
किसी से बैर भाव न हो सभी से मित्रता बढ़ाएं
अपनी क्षमता का करें विकास सभी
प्रगति की नयी रहें बनायें
आइये मिलकर फिर सभी
नया साल मनाएं
ईश्वर अल्लाह गुरु पीर पैगम्बर
जो भी नाम दे उसे
उस परम सत्ता का आशीष पायें
शुभकामनाएं ,शुभकामनाएं, शुभकामनायें
( एक निवेदन इस नादान को उपदेशक न समझें यह मात्र मेरे मन की भावनाएं है जिसे मैंने आप जैसे लोगों के साथ बाँटने का प्रयास किया है )

7 टिप्‍पणियां:

  1. वीणा श्रीवास्तव जी से मेल पर प्राप्त सन्देश
    सच करें उन सपनों को जो आँखों में हैं सालों से
    उम्मीद की किरण सदा जलती जगमगाती रहे
    मन में सदा ही सभी के नव प्रकाश फैलाती रहे
    जीवन सदा ही खुशियों से सभी का भरा रहे
    न भूखा नंगा रहे कोई न कोई किसी के ज़ुल्म सहे
    अवगुण न दिखे किसी के सद्गुणों की सभी में खान दिखे
    किसी की भावनाएं न हो आहत सभी का बना स्वाभिमान रहे
    बहुत सुंदर भावनाएं हैं...किसी एक पर भी असर कर गई तो आपका प्रयास सफल....
    आप सबको नए वर्ष की बहुत सी शुभकामनाएं....नया साल नव प्रकाश लेकर आए...

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्री राहुल सिंह जी से मेल पर प्राप्त
    पोस्‍ट पर कमेंट नहीं हो पा रहा है, सो यहां लगा रहा हूं- ''सबको मुबारक नया साल''.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबके जीवन में सकारात्मकता बनी रहे, वही सबका निष्कर्ष हो।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नए साल की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नए साल की आपको सपरिवार ढेरो बधाईयाँ !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया आलेख!
    रचनात्मकता बनी रहे!
    शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह अलग बात है कि हममें से कुछ ही लोग उन संभावनाओं को पहचान पाते हैं शेष नहीं.शायद शेष हम अंधेरे में ही भटके रह जाते है अपनी अंदर की क्षमताओं को पहचान नहीं पाते.

    वाह वाह जी आप का लेख पहली बार पढा ओर एक तरह से बंध सा गया, बहुत नपे तुले शव्दो से आप ने हम सब की बात सच मे कह दी, मेरे पास तो तारीफ़ के शव्द भी बहुत कम हे इस अति सुंदर लेख ओर सुंदर विचार के लिये, मै आप का ब्लाग .. ब्लाग परिवार मे एक सद्स्य के रुप मे शामिल कर रह हुं आप यहां देख सकते हे.आप का धन्यवाद
    http://blogparivaar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं